#8862 Ever felt happier, even after being late???

hurry now

Mostly we feel bad if we are late for something. In fact, it is often said that ‘It is better late than never’.

But, I am not talking about getting late always, but sometimes it is good to be late to avoid any mishap. Did you ever imagine the situation, where you feel happy even after reaching behind the schedule?

The same happened to me, when I was running against the time to reach for a movie. But, unfortunately because of heavy traffic I could not reach there as per the schedule. We ran and ran to mitigate the loss of the movie, but entered the movie hall 15 minutes after the scheduled timing.

To our utter surprise, only the advertisements were utilizing those 15 minutes as if the movie was waiting only for us to begin and makes us feel “Amazing” 🙂

ज़्यादातर हमें बहुत ख़राब लगता है जब हम किसी चीज़ के लिए देरी से पहुँचते हैं तो. जहाँ तक की ये भी कहा जाता है की “दुर्घटना से देरी भली”.

लेकिन मैं आपको हमेशा देर से पहुँचने के लिए नहीं कह रहा हूँ, सिर्फ ये बताना चाहता हूँ की कोई अनहोनी टालने के लिए अगर देर हो भी जाए तो उसमे कोई बुराई नहीं. खैर, क्या आपने कभी ऐसी किसी स्थिति के बारे में सोचा है जहाँ आपको देर से पहुँचने के बाद भी ख़ुशी मिली हो?

जी हाँ, ऐसा ही कुछ मेरे साथ हुआ जब मैं एक फिल्म देखने जा रहा था और वहां पहुँचने में मुझे ट्रैफिक के वजह से बहुत देरी हो रही थी. मैंने बहुत भाग-दौड़ की पर फिर भी मैं फिल्म थिएटर में १५ मिनट देरी से पहुँच पाया.

लेकिन यह जानकार हमें बहुत अचरज हुआ जब देखा की १५ मिनट से वहां सिर्फ विज्ञापन ही दिखाए जा रहे थे, जैसे की फिल्म शुरू होने में सिर्फ हमारा ही इंतज़ार कर रही हो और हमें “Amazing” फील करा रही हो 🙂

Advertisements

2 thoughts on “#8862 Ever felt happier, even after being late???

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s