#8870 Happy resignation!!!

Resignation
Had any resignation taught you one of the important lessons in life?

Every experience in life teaches us one or the other lessons, but I never thought that it would come from the resignation of my last job. Since college days, I always dream of finishing the studies and get into the job. And I got one very soon, but because of my wedding, I was forced to move to other city, where opportunities were less for my profile.

After struggling for 1.5 years, I got the tailor-made job for me and things went towards getting settled for 2-3 months. During the joining I told HR manager about my future holiday plan, which would mean that I am asking for a months’ leave to go to Australia on holiday. We already had our bookings and arrangements done but my boss was not ready to approve the leaves now. I was left with only 2 choices, one was to drop the holiday plan and join the 9 to 5 job again, which would cost us all the booking amount, where as the other was to resign and hear the voice from the bottom of heart to spend some quality time with the love of my life.

It wasn’t an easy decision to quit as the job gives me freedom and self-dependence. But, I followed the voice within to resign from the job and went ahead with the vacation, which turned out to be one of the best. As the result of that resignation, today I am free and self-dependent, but not with any other job, but with my own blog, which now gives me everything what I could have asked from any job.
Today, whenever I think of my success, I give the most credit to that decision of resigning which proved to be as the stepping stone and amazes me whenever I think of that choice 🙂

क्या कभी किसी कंपनी से इस्तीफ़ा देने पर आपको कुछ सीखने को मिला है ?

जीवन के सभी अनुभवों से कुछ न कुछ सीखने को ज़रूर मिलता है, पर मैंने कभी भी नहीं सोचा था की नौकरी के इस्तीफे से ऐसा कुछ होगा. मुझे अपने कॉलेज के दिनों से ही नौकरी करने का बहुत मन था, और मुझे नौकरी मिली भी, पर जल्दी ही शादी के बाद मुझे दूसरे शहर जाना पड़ा, जहाँ नौकरियां थोड़ी कम थी.

लेकिन १.५ साल बाद मुझे अपने मुताबिक नौकरी मिली और २-३ महीने बाद मुझे लगा की अब सब कुछ स्थिर हो रहा है. नौकरी पर जाने के पहले ही मैंने बता दिया था की मुझे १ महीने की छुट्टी चाहिए होगी क्यूंकि मेरा छुट्टी पर ऑस्ट्रेलिया जाने का प्रोग्राम निश्चित था, और सारे बुकिंग्स भी हो चुके थे. लेकिन अब कंपनी वाले मेरी छुट्टी को अब नहीं मान रहे थे, और मेरे सामने सिर्फ २ ही विकल्प बचे थे. या तो मैं फिर से ९ से ५ की नौकरी कर लूं, या फिर अपने दिल की आवाज़ सुन कर अपने पति की साथ जीवन की इतनी बड़ी छुट्टी मनाने जाऊं.

ये निश्चित करना इतना आसान नहीं था क्यूंकि मुझे मेरी नौकरी में ख़ुशी, सैलरी और आत्मनिर्भरता भी मिलती थी. पर फिर भी मैंने अपने मन की सुनी और इस्तीफ़ा देकर अपने पति के साथ एक सबसे बेहेतरीन छुट्टी पर चली गयी. और उस इस्तीफे के वजह से ही आज मैं और भी ज्यादा खुश और आत्मनिर्भर हूँ, पर किसी और नौकरी के वजह से नहीं बल्कि अपने खुद के ब्लॉग के वजह से, जहाँ मुझे वो सब कुछ मिलता है जो एक नौकरी में कोई भी कभी सोच सकता है.

आज भी जब मै उस इस्तीफे के बारे में सोचता हूँ, तो मुझे अपने मन की बात सुनने और उसके नतीजे पर बहुत ही “अचम्भा” होता है और दिल से ख़ुशी मिलती है 🙂

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s