#8873 Want to sleep more???

Sleep
Do you often remain sleep deprived because of XYZ reasons?

Whether you feel the need of more sleep or not, but I really do. It is because most of the times we intend to go against the body. When body wants to rest, heart wants to stay for some more time and when body wants to work, heart says something else.

Sleep is like an addiction to me, it always keep me wanting for more. I feel that I can sleep anytime and for as long as I can. But it rarely happens that I get to sleep properly at the perfect time. Very often I sleep very late at night and get up in the hope that Sunday will come soon.

One fine morning I get up with the lazy feeling, dullness in the eyes and sadness all over the mind… Its 7 am alarm again, time to get ready and head to office. With these thoughts in mind, straightaway went to the bathroom. About to turn the shower on, my sight went on to the ventilator only to find out that it is still dark outside.
In a rush I came out and checked the clock to find out 4:10 am.

It really “amazed” me and I had pretty sound sleep of another 3 hours 🙂

क्या आपने कभी नींद की कमी महसूस की है, चाहे वो किसी भी वजह से हो?

आपको चाहे नींद की कमी महसूस हो या ना हो, पर मुझे तो हमेशा नींद की दरकार रहती है. और वो इसलिए की ज्यादातर समय हम हमारे शरीर के विपरीत जाने की कोशिश करते हैं. अगर कभी शरीर नींद मांग रहा होता है, तो हम थोडा और जागना चाहते हैं. और अगर शरीर कुछ काम करना चाहता है तो हम सोना चाहते हैं.

मुझे तो नींद का जैसे नशा है, मुझे लगता है की मैं कभी भी, कहीं भी और कितनी भी देर के लिए सो सकता हूँ. लेकिन ऐसा बहुत की कम होता है जब की मुझे ठीक तरह से नींद मिले. क्यूंकि ज़्यादातर हम देर से सोते हैं और हमेशा सुबह इस उम्मीद में उठते हैं की छुट्टी का दिन जल्दी ही आएगा.

इसी तरह एक सुबह मैं बहुत ही आलस में उठा, मेरी आँखों में अभी भी नींद महसूस हो रही थी और मन में बहुत उदासी छा गयी थी… सुबह के ७ बजे का अलार्म बज रहा था, समय था उठ कर ऑफिस के लिए तयार होने का. ये सब सोचते हुए मैं बाथरूम में गया और जैसे ही शावर शुरू करने वाला था, मेरी नज़र खिड़की की ओर पड़ी. मैंने देखा की बाहर तो अभी भी अँधेरा छाया हुआ है.
जल्दी से मैं बाहर निकला और घडी की तरफ देखा, की अभी तो सिर्फ ४ बजकर १० मिनट हुए थे.

यह जानकार मैं एक दम “आश्चर्यचकित” हो गया और अगले ३ घंटे एक दम चैन की नींद ली 🙂

Advertisements

2 thoughts on “#8873 Want to sleep more???

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s