#8887 The Lost Remote!!!

uhhhh ? what ? Noooo , NOT sleeping , watching TV , Don't touch that remote !!!!!!!

It is the time when nothing in the world is more important.

Many a times it happens with us, that we keep the things here and there, and then at the time of the need we try to find them. I have never realized the importance of the TV remote in life. Yes, you hear it right ‘TV Remote’. A small TV remote which always keeps changing its place as per our need, sometimes lying on the Couch, dining table, books or even under the clothes. Even my habit is the same; wherever I go I take the remote and mostly forget it there. But, I realized the importance of it, when I was in rush to switch on the TV to watch one of favorite program and could not find it anywhere. I searched for it in all the rooms, kitchen and even in the bathroom. In fact, I prayed to God to find the remote soon, so that I do not miss the program. Then suddenly I realized that I had kept the clothes in the cup-board few minutes back, and may be the remote would have gone along with the clothes. When I went in the room and opened the door of the cupboard, I saw the dear remote smiling at me and that’s when I realized the importance of it. I thanked God, to get it for me just on time, to ensure I do not miss even a minute of the favorite program.
Just like this, sometimes we do not realize the importance of little things in life till the time we actually felt the dearth of it. And when we find such things in our adversity, these little things make us feel fabulous, which can’t be expressed in words 🙂

ये वो समय है जब दुनिया में हमें कुछ भी इससे ज्यादा ज़रूरी नहीं लगता.

कितनी बार हमारे साथ ऐसा होता है की हम हमारी चीज़ों को इधर उधर रख देते हैं और फिर जब ज़रूरत होती है तब उससे ढूँढने की कोशिश करते हैं. मुझे मेरे TV रिमोट की कभी भी इतनी ज़रूरत महसूस नहीं हुई थी. हाँ आपने ठीक सुना ‘TV रिमोट’. एक छोटा सा TV रिमोट जो हमारी ज़रूरत के हिसाब से हमेशा अपनी जगह बदलते रहता है, कभी सोफे पर, कभी डाइनिंग टेबल पर, कभी किताबों पर या कभी कपड़ों के नीचे. मेरी आदत भी कुछ इस तरह की ही है, TV देखते देखते जहाँ जाती हूँ, वहीँ रिमोट को भी ले जाती हूँ और वहीँ भूल जाती हूँ. फिर एक दिन मुझे इस छोटी सी चीज़ की ज़रूरत का अहसास हुआ, जब मै अपने सबसे पसंदीदा सीरियल देखने के लिए TV चालु करने के लिए रिमोट ढूंढ रही थी और मुझे कभी भी नहीं मिल रहा था. मैंने घर के सभी कमरों में, किचेन में और जहाँ तक की बाथरूम में भी ढूँढा. मैंने तो रिमोट मिल जाने के लिए भगवान् से भी प्रार्थना कर ली थी, ताकि मै अपना पसंदीदा सीरियल देख पाऊं. फिर अचानक से मुझे याद आया की मैंने थोड़ी देर पहले ही अलमारी में कपडे रखे थे, हो सकता है की रिमोट भी कपड़ों के साथ वहीँ चला गया हो. जब मै कमरे में जाकर अलमारी का दरवाज़ा खोला तो देखा की रिमोट वहीँ रखा हुआ मुझे देख कर मुस्करा रहा था और तभी मुझे उस छोटे से रिमोट की ज़रूरत का एहसास हुआ. मैंने भगवन को भी धन्यवाद किया की मुझे समय से पहले ही रिमोट मिल गया जिसके वजह से मैं अपने पसंदीदा सीरियल को पहले मिनट से ही देख पायी.
और इसी तरह, कभी कभी हमें हमारे जीवन में छोटी छोटी चीज़ों के महत्त्व का तब तक अनुमान नहीं लगता जब तक की वो चीज़ की हमें कमी महसूस न हो. और फिर जब वो चीज़ हमें मिल जाती है, तब यही छोटी चीज़ें हमें बहुत ही खुश और मोहित कर देती हैं, जिसका वर्णन हम शब्दों में नहीं कर सकते 🙂

Advertisements

2 thoughts on “#8887 The Lost Remote!!!

    1. Hi MsCrookedHalo, We understand it and the happiness once u find it after a long pause… Hoping that we make u smile for a moment at least… Appreciate your valuable comments, please keep following our blog for more “Amazing Things” 🙂

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s